KisanShopKisanShop is your one-stop online agricultural store offering a wide range of seeds, fertilizers, pesticides, tools, and equipment. Enhance your garden and farm productivity with our high-quality products. Shop now !https://www.kisanshop.in/s/65f83b39d13b931b1c1f1a9b/65f96755043aecdfe74af2db/kisanshop-logo-480x480.png
Kisanshop Private Limited, 2nd Floor, Dwarka Building, Namakpatti822114GarhwaIN
KisanShop
Kisanshop Private Limited, 2nd Floor, Dwarka Building, NamakpattiGarhwa, IN
+918069409553https://www.kisanshop.in/s/65f83b39d13b931b1c1f1a9b/65f96755043aecdfe74af2db/kisanshop-logo-480x480.png"[email protected]

करेले के बीज

दिखा 12 of 44 उत्पादs

किसानशॉप पर, हम करेले के बीजों का एक विविध संग्रह पेश करते हैं, जो उच्च विकास और उपज पर ध्यान केंद्रित करने वाले किसानों के लिए उपयुक्त है। हमारे चयन में कई ब्रांडों के बीज शामिल हैं, जिनमें से प्रत्येक अपनी गुणवत्ता और मजबूत प्रदर्शन के लिए जा...

किसानशॉप पर, हम करेले के बीजों का एक विविध संग्रह पेश करते हैं, जो उच्च विकास और उपज पर ध्यान केंद्रित करने वाले किसानों के लिए उपयुक्त है। हमारे चयन में कई ब्रांडों के बीज शामिल हैं, जिनमें से प्रत्येक अपनी गुणवत्ता और मजबूत प्रदर्शन के लिए जाना जाता है। इन बीजों की खेती करना आसान है, जो सभी स्तर के किसानों के लिए विश्वसनीय और भरपूर फसल प्रदान करते हैं। विभिन्न प्रकार के विकल्प उपलब्ध होने से, किसान ऐसे बीज चुन सकते हैं जो उनकी विशिष्ट खेती की स्थितियों और लक्ष्यों के लिए सबसे उपयुक्त हों। हमारे करेले के बीज विभिन्न वातावरणों के अनुकूल हैं, जो एक सफल फसल सुनिश्चित करते हैं। चाहे बड़े खेतों के लिए हो या छोटे भूखंडों के लिए, ये बीज गुणवत्ता और मात्रा के लिए एक व्यावहारिक विकल्प हैं। किसानशॉप की रेंज बाजार में सर्वश्रेष्ठ को एक साथ लाती है, जिससे किसानों के लिए उनकी जरूरतों के लिए सही बीज ढूंढना आसान हो जाता है।

किसान दुकान से करेले के बीज क्यों चुनें?

किसानशॉप, एक बाज़ार के रूप में, करेले के बीज की तलाश कर रहे किसानों के लिए एक अनूठा लाभ लेकर आता है:

  • कई स्रोतों से विविध चयन: एक बाज़ार होने के नाते, किसानशॉप विभिन्न आपूर्तिकर्ताओं से करेले के बीज प्रदान करता है। यह विविधता किसानों को ऐसे बीज चुनने की अनुमति देती है जो उनकी विशिष्ट खेती की स्थितियों और लक्ष्यों के लिए सबसे उपयुक्त हों।

  • उच्च अंकुरण क्षमता: हम यह सुनिश्चित करते हैं कि हमारे मंच पर उपलब्ध बीज उन स्रोतों से हैं जो अपनी उच्च अंकुरण दर के लिए जाने जाते हैं। इससे सफल और भरपूर फसल की संभावना बढ़ जाती है।

  • आनुवंशिक शक्ति और अनुकूलनशीलता: हमारे मंच में ऐसे बीज शामिल हैं जो आनुवंशिक रूप से मजबूत हैं, मजबूत रोग प्रतिरोधक क्षमता और विभिन्न पर्यावरणीय परिस्थितियों के अनुकूल अनुकूलन क्षमता प्रदान करते हैं। यह चयन मानदंड यह सुनिश्चित करता है कि किसानों को उनकी विशिष्ट कृषि संबंधी सेटिंग्स में पनपने में सक्षम बीज प्राप्त हों।

  • पर्यावरण-अनुकूल विकल्प: टिकाऊ कृषि के प्रति हमारी प्रतिबद्धता के अनुरूप, किसानशॉप में पर्यावरण-अनुकूल प्रथाओं के साथ उत्पादित बीज शामिल हैं। किसान ऐसे बीज चुन सकते हैं जो उनके पर्यावरणीय मूल्यों और टिकाऊ कृषि पद्धतियों के अनुरूप हों।

किसानशॉप से करेले के बीज चुनने का मतलब है विभिन्न प्रकार की खेती की जरूरतों के अनुकूल उच्च गुणवत्ता वाले, लचीले बीजों के क्यूरेटेड चयन तक पहुंच बनाना, यह सब टिकाऊ कृषि पद्धतियों का समर्थन करते हुए।

करेले की खेती और देखभाल गाइड

अगर सही तरीके से किया जाए तो करेला उगाना एक फायदेमंद अनुभव हो सकता है। सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने में आपकी सहायता के लिए यहां एक मार्गदर्शिका दी गई है:

  • आदर्श जलवायु: करेले के पौधे गर्म और आर्द्र परिस्थितियों में पनपते हैं। वे ऐसी जलवायु वाले क्षेत्रों के लिए सबसे उपयुक्त हैं, लेकिन सही देखभाल के साथ, उन्हें अन्य वातावरणों में भी उगाया जा सकता है।

  • मिट्टी की आवश्यकताएँ: स्वस्थ विकास की कुंजी अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी में निहित है। करेला दोमट या रेतीली दोमट मिट्टी पसंद करता है जो कार्बनिक पदार्थों से भरपूर हो। इष्टतम पौधों के विकास के लिए अच्छी मिट्टी की उर्वरता सुनिश्चित करें।

  • सूरज की रोशनी: इन पौधों को बढ़ने के लिए भरपूर धूप की जरूरत होती है। जोरदार विकास और बेहतर फलन के लिए उन्हें प्रतिदिन कम से कम 6 घंटे सीधी धूप प्रदान करने का लक्ष्य रखें।

  • पानी देना: नियमित और लगातार पानी देना महत्वपूर्ण है, खासकर फूल आने और फल लगने के दौरान। हालाँकि, सावधान रहें कि अधिक पानी न डालें, क्योंकि इससे जड़ सड़न और अन्य समस्याएं हो सकती हैं।

  • समर्थन संरचनाएँ: जाली या समान समर्थन संरचनाओं का उपयोग करने की अत्यधिक अनुशंसा की जाती है। यह न केवल फलों को जमीन से दूर रखकर बेहतर पैदावार में सहायता करता है, बल्कि कटाई को भी आसान बनाता है और पौधे के चारों ओर वायु परिसंचरण में सुधार करके पौधों के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है।

इन खेती और देखभाल युक्तियों का पालन करने से आपके करेले की खेती के अनुभव में काफी वृद्धि हो सकती है, जिससे एक सफल और भरपूर फसल प्राप्त होगी।

करेले की रोपाई और बुआई संबंधी युक्तियाँ

करेले की रोपाई करते समय सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने के लिए, इन प्रमुख बुवाई युक्तियों का पालन करना महत्वपूर्ण है:

  • गर्म मिट्टी में बुआई: करेले के बीज गर्म मिट्टी में पनपते हैं। अपने क्षेत्र में आखिरी ठंढ की तारीख के बाद उन्हें रोपना महत्वपूर्ण है, यह सुनिश्चित करते हुए कि मिट्टी पर्याप्त रूप से गर्म हो गई है। यह गर्माहट अंकुरण और शीघ्र वृद्धि के लिए आवश्यक है।

  • उचित दूरी: प्रत्येक पौधे के बीच पर्याप्त दूरी होना बहुत जरूरी है। इससे प्रत्येक करेले के पौधे को बढ़ने के लिए पर्याप्त जगह मिलती है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि उन्हें पर्याप्त पोषक तत्व और सूरज की रोशनी मिले। एक सामान्य नियम यह है कि पौधों को लगभग 45-60 सेमी (18-24 इंच) की दूरी पर रखा जाए। यह अंतर भीड़भाड़ को रोकने में मदद करता है और संसाधनों के लिए प्रतिस्पर्धा को कम करता है।

  • उचित बीजाई गहराई: सफल अंकुरण के लिए सही गहराई पर बीज बोना आवश्यक है। एक अच्छा नियम यह है कि करेले के बीजों को लगभग 1-2 सेमी (0.5-1 इंच) गहराई में बोया जाए। इस गहराई पर रोपण करने से यह सुनिश्चित होता है कि बीजों में नमी बनाए रखने के लिए पर्याप्त कवरेज है लेकिन वे इतने गहरे नहीं हैं कि उन्हें उभरने में कठिनाई हो।

इन रोपण और बुआई युक्तियों का पालन करने से आपकी स्वस्थ और उत्पादक करेले की फसल की संभावना काफी बढ़ सकती है। ये दिशानिर्देश शुरुआत से ही इष्टतम विकास वातावरण प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं।


Load More